ईरान और भारत के बीच हुए एमओयू समझौते की सूची

ईरान और भारत के बीच हुए एमओयू समझौते की सूची
ईरान और भारत के बीच हुए एमओयू समझौते की सूची

क्रम संख्या

एमओयू/समझौतों का नाम

एमओयू/समझौते का विवरण

भारतीय पक्ष

ईरानी पक्ष

1.

दोहरे कराधान सेबचाव और आय परराजकोषीयअपवंचन कीरोकथाम सेसंबंधित समझौता।

निवेश एवं सेवाओं के प्रवाहको बढ़ावा देने के क्रम मेंदोनों देशों के बीच दोहरेकराधान के बोझ से बचाव।

श्रीमती सुषमा स्वराज, विदेश मंत्री

डॉमसूदकारबासियांआर्थिक औरवित्तमामलों केमंत्री

2.

राजनियकपासपोर्ट धारकों केलिए वीजा जरूरतसे छूट देने के लिएएमओयू

हर देश में राजनयिकपासपोर्ट धारकों को यात्राके लिए वीजा की जरूरत सेछूट देना

श्रीमती सुषमा स्वराज, विदेश मंत्री

डॉमोहम्मदजावेदजरीफविदेश मंत्री

3.

प्रत्यर्पण संधि केअनुसमर्थन केदस्तावेज केलेनदेन

भारत और ईरान के बीच2008 में हुई प्रत्यर्पण संधिअमल में आई।

श्रीमती सुषमा स्वराज, विदेश मंत्री

डॉमोहम्मदजावेदजरीफविदेश मंत्री

4.

बंदरगाह रसामुद्रिक संगठन(पीएमओ), ईरानऔर इंडिया पोर्ट्सग्लोबल लिमिटेड(आईपीजीएलकेबीच अंतरिमअवधि के दौरानचाबाहार के चरण1-शाहिद बेहेस्तीबंदरगाह के लिएपट्टा अनुबंध

मौजूदा बंदरगाह सुविधाओंको अधिकार में लेने केलिए डेढ़ सौर वर्ष (18 महीनेकी अवधि के लिएबहुद्देश्यीय क्षेत्र के एकहिस्से और कंटेनर टर्मिनलको पट्टे पर लेना

श्री नितिन गडकरी, पोत परिवहन मंत्री

डॉअब्बासअखुंडीसड़क एवंशहरीविकास मंत्री

5.

दवाओं कीपारंपरिक पद्धतियोंके क्षेत्र में सहयोगके लिए एमओयू

शिक्षाअभ्यासदवाओंऔर दवारहित उपचारसभी दवा सामग्रियों औरदस्तावेजों की आपूर्तिप्रशिक्षण विशेषज्ञोंचिकित्सा सहायकोंवैज्ञानिकोंशैक्षणिकपेशेवरों और छात्रों को एकदूसरे देश में भेजना औरअनुसंधानशिक्षण औरप्रशिक्षण कार्यक्रमों के लिएसंस्थानों में जगह दिलानादवा संबंधी पुस्तकों औरनियमावलियों को परस्परमान्यता देनाशिक्षणसंस्थानों की स्थापनाछात्रवृत्ति के प्रावधानपरस्पर भागीदारी केआधार पर पारंपरिकतैयारियों को मान्यतापरस्पर भागीदारी केआधार पर अभ्यास कोमंजूरी देने सहित दवाओंकी पारंपरिक पद्धतियों मेंभागीदारी विकसित करनाऔर मजबूत बनाना।

श्री विजयगोखलेविदेशसचिव

एच. ई. घोलामिर्जा अंसारी, ईरान के राजदूत

6.

पारस्परिक हित केक्षेत्रों में सहयोग कोबढ़ावा देने के वास्तेव्यापार में सुधार केउपायों के परविशेषज्ञ समूह कीस्थापना के लिएएमओयू

इसका उद्देश्य एंटी डंपिंगऔर काउंटरवीलिंग ड्यूटीके लिहाज से व्यापार मेंसुधार के उपायों में सहयोगका एक फ्रेमवर्क स्थापितकरना है।

श्रीमतीरीतातिओतियासचिव(वाणिज्य)

डॉमोहम्मदखाजेईआर्थिकमामले औरवित्त उपमंत्री

7.

कृषि एवं संबंधितसेक्टरों के क्षेत्र मेंसहयोग परएमओयू

संयुक्त गतिविधियोंकार्यक्रमोंसूचना एवंकर्मचारियों के आदानप्रदानकृषि फसलोंकृषिविस्तारबागवानीमशीनरीकृषि बादप्रौद्योगिकीपौधों कोअलग करने उपायकर्जएवं भागीदारीमृदासंरक्षणबीज तकनीकपशुधन सुधारदुग्धविकास सहित कृषि एवंसंबंधित क्षेत्रों में द्विपक्षीयसहयोग।

श्री एस के पटनायक, सचिव (कृषि)

डॉमोहम्मदखाजेईआर्थिकमामले औरवित्त उपमंत्री

8.

स्वास्थ्य एवं दवाके क्षेत्र में सहयोगपर एमओयू

प्रौद्योगिकीवैज्ञानिकवित्तीय एवं मानवसंसाधनस्वास्थ्यचिकित्सा शिक्षाअनुसंधान एवं प्रशिक्षण मेंमानवसामग्री औरबुनियादी ढांचागतसंसाधनों की गुणवत्ताऔर पहुंच में सुधारचिकित्सकों और अन्यस्वास्थ्य पेशेवरों केप्रशिक्षण से जुड़े अनुभवोंके आदानप्रदानमानवसंसाधनों के विकास एवंस्वास्थ्य सुविधाओं कीस्थापना में सहयोगदवाचिकित्सा उपकरण एवंकॉस्मेटिक्स के नियमनएवं आदान प्रदानचिकित्सा अनुसंधान मेंसहयोगसार्वजनिकस्वास्थ्यटिकाऊ विकाससे लक्ष्यों (एसडीजीऔरअंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य मेंसहयोग सहित दोनों पक्षोंके बीच व्यापक अंतरमंत्रालयी और अंतरसंस्थानिक सहयोग कीस्थापना।

श्री विजय गोखले, विदेश सचिव

एच. ई. घोलामिर्जा अंसारी, ईरान के राजदूत

9.

डाक सहयोग पर सहयोग।

अनुभवोंकॉमर्स/लॉजिस्टिक सेवाओं मेंजानकारियों औरप्रोद्योगिकीडाक टिकटपर सहयोगविशेषज्ञों केकार्यकारी समूह कीस्थापनादोनों देशों कीवायु और सतह पारगमनक्षमताओं के इस्तेमाल परव्यवहार्य अध्ययन केआदान प्रदान सहित दोनोंडाक एजेंसियों के बीचसहयोग।

श्री अनंत नारायण नंदा, सचिव (डाक)

एच. ई. घोलामिर्जा अंसारी, ईरान के राजदूत

 

यात्रा के दौरान व्यापारिक संगठनों के  निम्नलिखित  एमओयू   हुए

(1). ईईपीसी इंडिया और ईरान के व्यापार प्रोत्साहन संगठन के बीच एमओयू।

(2). फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) और ईरान चैंबर ऑफ कॉमर्स, इंडस्ट्रीज, माइन्स एंड एग्रीकल्चर (आईसीसीआईएमए) के बीच एमओयू।

(3). एसोसिएटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया (एसोचैम) और ईरान चैंबर ऑफ कॉमर्स, इंडस्ट्रीज, माइन्स एंड एग्रीकल्चर (आईसीसीआईएमए) के बीच एमओयू।

(4). पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (पीएचडीसीसीआई) और ईरान चैंबर ऑफ कॉमर्स, इंडस्ट्रीज, माइन्स एंड एग्रीकल्चर (आईसीसीआईएमए) के बीच एमओयू।


Leave a Reply

Your email address will not be published.