http://pranjalindia.xyz , pranjal india, india, pranjalindia,

• देश भर के स्कूलों में जल्द ही ऑपरेशन स्कूल बोर्ड काम करने लगेगा। इसका उद्देश्य छात्रों को डिजिटल शिक्षा देने के साथ देश में एक डिजिटल मंच तैयार करना है।

• केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शिक्षा के क्षेत्र में काम कर रहे संगठनों से इस दिशा में सहयोग का आह्वान किया है। जावड़ेकर आज मानव संसाधन विकास मंत्रालय के स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग द्वारा आयोजित दो दिवसीय ‘‘चिंतन शिविर’ के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे।

• उन्होंने कहा कि कार्यशाला मुख्य रूप से पांच विषयों डिजिटल शिक्षा, जीवन कौशल शिक्षा, प्रायोगिक अध्ययन, शाीरिक शिक्षा और नैतिक शिक्षा पर केंद्रित है। इसके जरिये हम एक दूसरे के बेहतरीन तरीके सीख सकते हैं।

• अगले कुछ वर्षों में देश भर के स्कूलों में ‘‘ऑपरेशन डिजिटल बोर्ड’ कार्य करने लगेगा। सरकार और शिक्षा के क्षेत्र में कार्य कर रहे विभिन्न संगठनों को देश के सभी छात्रों को डिजिटल शिक्षा प्रदान करने लिए सामग्री डालने में सहयोग तथा सामान्य डिजिटल मंच तैयार करना चाहिए।

• शारीरिक शिक्षा, जीवन कौशल शिक्षा तथा नैतिक शिक्षा पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि शारीरिक शिक्षा के बिना शिक्षा अधूरी है। छात्रों को स्वस्थ और तंदुरुस्त रहने के लिए अपनी पसंद के व्यायाम, योग, एरोबिक्स, दौड़ आदि करनी चाहिए।

• जीवन कौशल शिक्षा तथा नैतिक शिक्षा आज के समय की आवश्यकता है और समग्र विकास के लिए व्यक्ति को अपने व्यवहार में इन्हें जरूर शामिल करना चाहिए। मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री सत्येंद्र पाल सिंह ने कहा कि शिक्षा का ध्येय मनुष्य का संपूर्ण विकास और उसमें मानवता का भाव पैदा करना है। संपूर्ण विकास का मतलब मनुष्य का शारीरिक, मानिसक, बौद्धिक और आत्मिक विकास है।

• शारीरिक शिक्षा के जरिए मनुष्य का शारीरिक विकास किया जा सकता है वहीं गुणवत्तापरक शिक्षा से बुद्धिमत्ता प्राप्त की जा सकती है। हमें अपने बच्चों को जीवन के मूल्यों और शिक्षा के बारे में बताना चाहिए। दो दिवसीय इस चिंतन शिविर में 157 संस्थाएं अपनी अपनी प्रस्तुतियां देकर विचार साझा करेंगी।

 


 

Leave a Reply

Your email address will not be published.