वैश्विक उद्यमिता सम्मेलन, india

वैश्विक उद्यमिता सम्मेलन : मोदी ने दिया निवेश का न्योता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को दुनियाभर के उद्यमियों से भारत में निवेश करने का आह्वान करते हुए कहा कि उनकी सरकार ने निवेश अनुकूल माहौल बनाने के लिए देश में टैक्स और कई अन्य सुधार किए हैं।

वैश्विक उद्यमिता सम्मेलन-2017 को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने 1,200 से ज्यादा पुराने पड़ चुके कानूनों को खत्म कर दिया है, 21 क्षेत्रों में विदेशी निवेश के नियमों को सरल बनाया है और कई प्रक्रियाओं को ऑनलाइन किया है।

सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की पुत्री और उनकी सलाहकार इवांका ट्रंप भी हिस्सा ले रही हैं। प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि कारोबारी माहौल सुधारने के उनकी सरकार के प्रयासों का ही परिणाम है कि विश्व बैंक की ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रिपोर्ट’ में भारत पिछले तीन सालों में 142वें पायदान से 100वें पायदान पर पहुंच गया है। इसके अलावा ग्लोबल क्रेडिट रेटिंग एजेंसी ‘मूडीज’ ने भी भारत की रेटिंग को अपग्रेड किया है।

सरकार के आर्थिक सुधारों का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) की शुरुआत के साथ ही कर प्रणाली में व्यापक सुधार किया गया है।

प्रधानमंत्री ने देश के युवा उद्यमियों का आह्वान करते हुए कहा कि उनमें से प्रत्येक 2022 तक नया भारत बनाने में योगदान दे सकता है। मोदी ने विश्वभर के उद्यमियों से कहा कि वे भारत आएं, भारत में ही बनाएं (मेक इन इंडिया) और भारत व दुनिया के लिए भारत में निवेश करें।

प्रधानमंत्री ने बताया कि भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 400 अरब अमेरिकी डॉलर को पार कर गया है और देश में बड़ी मात्र में विदेशी पूंजी का आना लगातार जारी है।

महिलाएं शक्ति का अवतार : सम्मेलन की थीम ‘वूमेन फस्र्ट, प्रॉस्पेरिटी फॉर ऑल’ की जिक्र करते हुए मोदी ने कहा, ‘भारतीय पौराणिक कथाओं में महिला को शक्ति का अवतार कहा गया है। हम मानते हैं कि महिला सशक्तीकरण हमारे विकास के लिए बेहद महत्वपूर्ण है।’

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारतीय महिलाओं ने जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान दिया है। वर्तमान में भारत के सबसे पुराने चार हाई कोर्टो की मुखिया महिला न्यायाधीश हैं।


 

Leave a Reply

Your email address will not be published.