सौर पवन से सुरक्षित है मंगल का वातावरण

सौर पवन से सुरक्षित है मंगल का वातावरण

सौर पवन से सुरक्षित है मंगल का वातावरण
सौर पवन से सुरक्षित है मंगल का वातावरण

• दूसरे ग्रह पर जीवन की तलाश कर रहे वैज्ञानिकों को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। एक अध्ययन में सामने आया है कि धरती की तरह चुंबकीय द्विध्रुव के न होने के बावजूद मंगल ग्रह का वातावरण सौर पवन से पूरी तरह से सुरक्षित है।

• वर्तमान में मंगल एक ठंडा और सूखा ग्रह है, जिसका सतह पर दबाव धरती के एक की तुलना में कम है। हालांकि बहुत सी भौगोलिक विशेषताएं इस ओर करती हैं कि तीन से चार अरब वर्ष पहले यहां सक्रिय जल चक्र मौजूद था।

• यही वजह है कि अन्य ग्रहों की तुलना में यहां जीवन होने की संभावना सबसे ज्यादा जताई गई है। इसी के चलते वैज्ञानिकों की सबसे ज्यादा रुचि लाल ग्रह पर जीवन की तलाश में है।

• वैज्ञानिकों के मुताबिक, एक सक्रिय जल चक्र के लिए गर्म जलवायु की आवश्यकता होती है। मंगल के इतिहास में इस ग्रह पर सक्रिय जल चक्र होने से मिलते हैं कि यहां का गहरा वातावरण एक मजबूत ग्रीनहाउस प्रभाव बनाने में समक्ष था।

• एक सामान्य अवधारणा के मुताबिक, समय के साथ मंगल ग्रह पर सौर पवन का असर पड़ा था, जिसने ग्रीन हाउस प्रभाव पर असर डाला और इसके परिणामस्वरूप जल चक्र का नाश हो गया।

• इस तरह पैदा होता हैं चुंबकीय क्षेत्र : वैज्ञानिकों के मुताबिक, वैसे तो मंगल ग्रह पर धरती के समान कोई वैश्विक चुंबकीय द्विध्रुव मौजूद नहीं है, लेकिन ऊपरी वातावरण में सौर पवन के आयनित होने से यहां चुंबकीय मंडल उत्पन्न हो जाता है।

 

• अब तक ये मानते आए थे वैज्ञानिक : स्वीडन स्थित उमेआ यूनिवर्सिटी के रॉबिन रामस्टेड के मुताबिक, हम लंबे समय से यह मानते आ रहे हैं कि यह चुंबकीय मंडल मंगल के वातावरण की रक्षा के लिए पर्याप्त नहीं है, लेकिन हमारा नया अध्ययन इसके विपरीत परिणाम दे रहा है। हमने अध्ययन के लिए हमने मार्स एक्सप्रेस स्पेसक्राफ्ट में लगे स्वीडिश पार्टिकल इंस्ट्रूमेंट एसपैरा-3 का प्रयोग किया।

• यह अंतरिक्ष यान वर्ष 2004 से मंगल पर आयन इस्कैप को माप रहा है।

• नए अध्ययन में ये आया सामने : वैज्ञानिकों के मुताबिक, जब उन्होंने इस विस्तृत डाटा को एकत्र किया तो इससे सामने आया कि मंगल पूरी तरह से सौर पवन से सुरक्षित है और यहां किसी तरह से सौर विकिरण जिसे एक्स्ट्रीम अल्ट्रावायलट रेडिएशन (अत्याधिक पराबैंगनी विकिरण (इयूवी)) का जाता है उसका कोई भी बुरा असर नहीं पड़ता है।

• इसलिए है जीवन की संभावना : शोधकर्ताओं के मुताबिक, उपरोक्त परिणाम हमें बताते हैं कि मंगल ग्रह पर भले ही धरती जैसा चुंबकीय क्षेत्र मौजूद न हो, लेकिन यहां चुंबकीय मंडल उत्पन्न होता है और इसके चलते यहां जीवन की संभावना प्रबल होती है।

सौर पवन से सुरक्षित है मंगल का वातावरण
सौर पवन से सुरक्षित है मंगल का वातावरण

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.